Tuesday, July 23, 2019

Independence Day Speech in Hindi स्वतंत्रता दिवस भाषण

15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 15 August Independence Day Speech in Hindi 2019


 
https://www.latestphoneprice.com/
73वें स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 15 August Independence Day Speech in Hindi 2019

स्वतंत्रता दिवस पर स्कूलों, कॉलेजों के बच्चों और शिक्षकों के लिए भाषण(Speech)। परीक्षा में भी Students इससे मदद ले सकते हैं।


73वें स्वतंत्रता दिवस पर भाषण 15 August Independence Day Speech in Hindi 2019:


हमारा भारत देश 15 august 2019 में अपना 73 वा  स्वतंत्रता दिवस मनाया  जाएगा.  स्वतंत्रता दिवस एक ऐसा त्यौहार है जिस दिन भारतीय अपने स्वतंत्रता सेनानियों को श्रद्धांजलि देते हैं और जो अतीत में हमारे देश के लिए हमारे देश की स्वतंत्रता के लिए आजादी के लिए लड़ाई की है जिन्होंने.  यह दिन भारत के प्रधानमंत्री भारत के ध्वज को फहराते हैं और वह दिल्ली के लाल किले पर भाषण भी देते हैं.  स्वतंत्रता दिवस पर भाषण Independence Day Speech in Hindi.

इस दिन स्कूल और विद्यालयों में भाषण की बहुत सारी प्रतियोगिताएं होती हैं, इन भाषण प्रतियोगिता में भाग लेने वाले छात्र-छात्राओं को अच्छा भाषण देना होता है. अपने वाले छात्र और छात्राओं के लिए स्वतंत्रता दिवस पर भाषण साझा का, जिसे हर छात्र अपने स्कूल या कॉलेजों में स्वतंत्रता दिवस पर सुना सकता है इस पोस्ट में में आप लोगों को ऐसा भाषण देना सिखाऊंगा. 

अगर आप लोगों को स्वतंत्रता दिवस के बारे में अधिक जानकारी नहीं है तो सबसे पहले आप यह जानना जरूर समझे कि स्वतंत्रता दिवस क्या है और इसे क्यों मनाते हैं उसके बाद ही आप इसके ऊपर अच्छा भाषण दे सकेंगे. वैसे मैंने इस पोस्ट में आपको स्वतंत्रता दिवस के बारे में पूरी जानकारी दे दी है.

स्वतंत्रता दिवस पर भाषण इंडिपेंडेंस डे स्पीच इन हिंदी  2019:




आप लोग अगर एक छात्र हैं या छात्रा है टीचर हैं और आप लोगों को स्वतंत्रता दिवस के लिए भाषण देना है और आप खोज रहे हैं तो आप सही  सही जगह पर आए हैं.  हम आपको यहां पर Independence Day  को याद करके किसी कागज पर लिखकर अपने स्कूल में सुना कर सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन कर सकते हैं.

स्वतंत्रता दिवस भाषण, मित्रता दिवस का भाषण, स्वतंत्रता दिवस पर भाषण, स्वतंत्रता दिवस हिंदी भाषा, स्वतंत्रता दिवस पर हिंदी भाषण, 15 अगस्त भाषण, 15 अगस्त पर भाषण हिंदी में

स्टूडेंट के लिए 15 अगस्त स्वतंत्रता दिवस पर भाषण हिंदी में


 मेरे सभी आदरणीय अध्यापकों, अभिभावकों, और प्रिय मित्रों को मेरा नमस्कार.

आज हम सब यहां महान राष्ट्रीय आयोजन स्वतंत्रता दिवस का जश्न मनाने के लिए इकट्ठे हुए  हैं.  जैसा कि आप सब जानते ही होंगे कि 15 अगस्त को  हमारे देश में स्वतंत्रता दिवस बहुत धूमधाम से मनाया जाता है, यह दिन हम सभी भारतीयों के लिए बहुत ही एक शुभ अवसर है.

भारत का स्वतंत्रता दिवस हम सभी भारतीयों के लिए सबसे महत्वपूर्ण और साथ ही साथ एक बहुत बड़ा खुशी का दिन है और इतिहास में हमेशा याद रहने वाला दिन है.  यह वह दिन है जब हमने भारत के महान संत का सेनानियों द्वारा कई वर्षों तक कड़े संघर्ष के बाद अंग्रेजों के शासन से यानी कि ब्रिटिश शासन से आजादी मिली थी.

हम सब भारत की आजादी के लिए पहले दिन को याद रखने के लिए हर साल 15 अगस्त को स्वतंत्रता दिवस मनाते हैं और इसके साथ ही उन सभी महान स्वतंत्रता सेनानियों के बलिदानों को भी याद करते हैं, जिन्होंने अपनी जान की ना परवाह करते हुए हमारे देश को आजादी दिलाने में अपनी जान तक गंवा दी.

1947 में ब्रिटिश शासन 15 अगस्त के दिन भारत को आजादी मिली थी.  आजादी के बाद हमें अपने स्वयं के राष्ट्र यानी कि हमारी मातृभूमि हमारे सभी मौलिक अधिकार प्राप्त हुए. हम सभी को भारतीय होने पर गर्व होना चाहिए और अपने भाग की प्रशंसा करनी चाहिए कि हमने एक आजाद भारत के आंचल में जन्म लिया है और भारत के इतिहास से पता चलता है कि हमारे पूर्वजों ने कड़ी मेहनत की थी और अंग्रेजो के क्रूर व्यवहार का सामना किस प्रकार किया था, उन्होंने किसी भी प्रकार की कोई भी चिंता किए बिना हमारे देश को आजादी दिलाई फिर चाहे उन्हें अपनी जान ही क्यों ना गवानी पड़ी है.

आप लोग यह अंदाजा भी नहीं लगा सकते कि ब्रिटिश शासन से भारत के लिए आजादी कितनी मुश्किल की. थी यह आज और कठिन परिश्रम और 1857 से 1947 तक कई दशक संघर्ष करने के बाद मिली  मिली है.

 भारत की आजादी के लिए सबसे पहले अंग्रेजों के खिलाफ मंगल पांडे ने आवाज उठाई थी.

उसके बाद कई महान स्वतंत्रता सेनानियों ने भी आजादी के लिए अपनी आखिरी सांस तक बिना किसी अपने सुख की और आराम की चिंता किए हुए और ना ही परिवारिक चिंता की उन्होंने देश की सेवा के लिए आखिरी सांस तक संघर्ष किया. हम भगत सिंह खुदीराम बोस और चंद्रशेखर आजाद के बलिदानों को कभी नहीं भूल सकते, जिन  जिन सुर वीरों के कारण आज हमारे देश को आजादी मिली है जिन्होंने अपने शुरुआती उम्र में ही अपनी जान गवा दी.

हम सभी सुभाष चंद्र बोस और महात्मा गांधी जी के संघर्षों को कैसे नजर नजर अंदाज कर सकते हैं. गांधीजी एक बहुत ही महान व्यक्ति थे जिन्होंने भारतीयों को अहिंसा का एक बहुत बड़ा पाठ सिखाया. 

गांधी जी अकेले ही एक ऐसे शख्स थे जिन्होंने अहिंसा की मदद के लिए स्वतंत्रता पाने के लिए भारत का बहुत बड़ा सहयोग किया और आखिरकार लंबे वर्षों तक संघर्ष का परिणाम 15 अगस्त 1947 को सामने आया जब हमारे देश को पूर्ण रूप से आजादी प्राप्त हुआ.

हम लोग अपने भाग्यशाली और हमारे पूर्वजों ने हमें शांति और खुशहाली की एक बहुत बड़ी मिसाल कायम की जहां हम बिना डर के रह सकते हैं और पूरे दिन हमारे देश में आजाद पंछी की तरह आराम से किसी भी कार्य को स्वतंत्रता रूप से कर कर सकते.

हमारा देश प्रौद्योगिकी, शिक्षा, खेल, वित्त और अलग-अलग क्षेत्रों के क्षेत्र में बहुत तेजी से विकास कर रहे हैं, जिसके जिसके फलस्वरूप यह सब स्वतंत्रता से पहले लगभग असंभव था.

हां, आज हम गर्व से कह सकते हैं कि अब हम पूर्ण रूप से स्वतंत्र हैं हाल आज हमारे देश को जिम्मेदारियों से मुक्त नहीं होना चाहिए. हमारे देश के जिम्मेदार नागरिक होने के नाते हम सभी को अपने अपने साथ देश के किसी भी आपातकालीन स्थिति को संभालने के लिए तैयार होना चाहिए. 

धन्यवाद !

अंतिम शब्द: 

दोस्तों हमने बहुत बड़ी मेहनत करके आप लोगों के लिए स्वतंत्रता दिवस के ऊपर स्कूल और कॉलेजों में भाषण देने के लिए इसे अपने देश की आजादी को ध्यान में रखते हुए और उनके दिए गए बलिदानों को याद रखते हुए इस पोस्ट को लिखा है अगर इसमें मुझसे कोई गलती हो गई हो तो क्षमा योग्य और अगर आप को यह पोस्ट पसंद आई हो तो इसे ज्यादा से ज्यादा शेयर करें, आप लोगों की महान कृपा होगी

 (सूरज शुक्ला)


0 comments: